नये क़िस्सों की पुरानी तर्ज़

राज़ (Secrets of pain in desires)

बोलने से कुछ नहीं बदलता, बस सामने वाले को पता चलता है की आपको चोट कहाँ होती है। एक तरीक़ा यह होगा की हमें चोट हो ही ना, पर अभी तक मैं ऐसा अपने आप को ढाल नहीं पायी हूँ। पर किनारा करना सीख रही हूँ, ऐसी हर चीज़ से जो अहसास हल्के करने की बजाए भारी करे। हर कोई अपनी सोच का ग़ुलाम है शायद मैं भी, पर सोच में किसी को ना शामिल करना नहीं सीखा, ख़याल आ ही जाता है, उसके बाद फिर वही पुराने सिलसिले। इसलिए यह कविता की थोड़े से मगरूर हो जाए, सादगी और साफ़ दिल को बेवक़ूफ़ी और ज़रूरत का भी नाम देते हैं लोग।

मेरे सभी शायर और कवि दोस्तों, संभल कर रहिएगा दिल के मामलो में। गुड लक!

यह राज दिल के बताऊँ क्यूँ मैं
दाग़ ऐसे दिखाऊँ क्यूँ मैं
बहाल दिल को तू छोड़ देगा
ऐसे पिया के पास जाऊँ क्यूँ में

जो वसल पर बात की थी
भूल गया तू दोहराऊँ क्यूँ मैं
दिन अंधेरे गुज़र रहे है
रातों को शमा जलाऊँ क्यूँ मैं

मगरूर हो जा तू बात बात में
मेरी भी मालमत जताऊँ क्यूँ मैं
इल्म मेरे हाल का कौन रखे
मशवरत किसी से पाऊँ क्यूँ मैं

अपने रंज-ऐ-ग़म को क्यूँ मैं छोड़ो
किसी और के वाबस्ता इन्हें बनाऊँ क्यूँ मैं
हमदर्द हमराह हो तो मिलो
मुशीर इश्क़ के नाम घर लाऊँ क्यूँ मैं

मशरूफ है दुनिया के ग़म की ख़ातिर
दिए-तले-अंधेरा उन्हें दिखाऊँ क्यूँ मैं
लगाते है हर शमा पर चिंगारियाँ
बुझी लो को मेरी जलाऊँ क्यूँ मैं

मैं आम हूँ उसकी नज़र में
उन्हें ख़ास फिर पाऊँ क्यूँ मैं
मिले तो ले लें मेरे जैसी कुव्वत
फिर शर्मिंदा होने को किसी को जताऊँ क्यूँ मैं

यह राज दिल के बताऊँ क्यूँ मैं।

Advertisements
नये क़िस्सों की पुरानी तर्ज़

हुस्न के जलजले (The coming of beauty)

प्यार

जितना सदुपयोग या दुरुपयोग इस शब्द का हुआ है, उतना शायद किसी और शब्द का नहीं हुआ होगा। इससे प्यार, उससे प्यार, खुदसे प्यार, और जहाँ लगाव होगा वहाँ अलगाव भी होगा। सुनिए, प्यार केवल अपने आप में पूरक नहीं, अगर आप करना चाहते है तो करिए, जैसी आपकी शिद्दत हो वैसी करिए, पर फिर भूल जायिए। जो शिद्दत आपने महसूस की वो आपके दिमाग़ में थी, वैसी ही वापस ना मिले, तो जो मिले उसे महसूस करिए, ना हो महसूस अगर तो अपनी राह बदलए पर अफ़सोस ना करिए ना ही अहसासों को दबाइये। दिल खोल कर ज़िन्दगी बितायें।
जब तक आपका दिल टूटना बंद ना हो जाए समझ लीजिए की तब तक अच्छे से टूटा नहीं है 😉

यह शायरी ऐसे ही लोगों की नज़र है….

उसने हुस्न के जलजले
शब-ए-तारुफ में एैसे घोल दिए
की अागाज-ए-सुबह मेरी
फरमाबरदार हो गयी

उलझन दिलो की होती होगी उन्हें
जो पलके झपकते है
मेरी तो आँखें खुली रह गयी
और वो नज़र के पार हो गयी

काँटू तो लहू भी नही निकलता
रगो में मेरे वो खुमार हो गयी
ख़ून तो तारीफ़ों में बह गया
उसकी सुर्ख़ लाली शर्मसार हो गयी

अच्छी नही लगती उसकी आँखों में शरम
उसे बीमारी थी परायो में मेरा शुमार करने की
मैं तो दिल चीर कर बैठा था और
हिचकिचाने ही में उसे मोहब्बत बेशुमार हो गयी

दामन खींच लिया मैंने भी उसका
एैसे वो मेरी बाँहों में खो गयी
अब कैसे आएगी शरम
हमजिस्म हमारी जान हो गयी

१०० दिन का फ़ासला एक दिन की दूरी हो गयी
यह हरकतें अब कितनी ज़रूरी हो गयी
मैं मोहब्बत को सोचने का वक़्त नही देता
जाने कितनों की सोच में ये अधूरी खो गयी

मेरे ख़ुमार में उसकी सुबह होती है आज कल
और परसों मिलने की मंज़ूरी हो गयी
लोग जल रहे है अब मुझे देख कर
नज़र में उसकी मेरी शख़्सियत पूरी हो गयी

बताओ उन्हें जो प्यार से डरते है
दिल टूटना कब से कमज़ोरी हो गयी
मैं तो घोल कर पी गया हूँ आशीकी
मिले तो जहेनसीब,
न मिले तो किसी की मजबूरी हो गयी।

दरमियाँ

बोरियत (Boredom)

बोरियत सभी को होती है, किसी को ज़्यादा किसी को कम। किसी को ख़ाली समय में, किसी को हर वक़्त, किसी को किसी की याद में, किसी को किसी को भूलने की आस में, लोग अलग अलग तरीक़े निकाल ही लेते है अपनी बोरियत को हटाने के। आपने नोटिस किया होगा की कैसे दिल भटकता है जब दिल और दिमाग़ पर कोई और छाया हो, इसे बीमारी कहा जा सकता है क्यूँकि जब होश आता है तो विश्वास नहीं होता की हम कैसे बन गए थे किसी और के लिए जैसे कोई मच्छर काट कर बीमार कर देता है तो ज़रूरी है कि अगर दिल तुड़वाने की हिस्ट्री है तो अपना दिल बचा कर रखिए, व्यस्त रहिए, बार बार दिल तुड़वाने में कोई बहादुरी नहीं । बस हिम्मत टूटतीं है, यह हिम्मत जो आप दिल के मामलों में दिखाते है उसे आस पास रोज़मर्रा की ज़िंदगी में दिखाए, पढ़े, लिखे, कुछ अच्छा करे जहाँ भी आप हो जैसी भी आपकी ज़िंदगी हो।

यह कविता मेरे ऐसे ही किसी ख़ाली पल का नतीजा है 😌

हल्की सी बोरियत है
और काम भी बहुत है
निबटाने तो है पर
बेपरवाही में आराम बहुत है

आज कल पुराने मसले परेशान नहीं करते
लोग भी अब उतना हैरान नहीं करते
लगता है वक़्त हो गया
गए अहसास मुझसे अपनी पहचान नहीं करते

ताला लगा कर सुबह फिर चेक किया तसल्ली के लिए
की बहादुरी क़ैद से ना निकल जाए
रोज़ जज़्बात गिनता हूँ की पूरे तो है मेरे पास
यह दिल बड़ी मुश्किल से बुज़दिल हुआ था

नफ़स क़ाबू में है
तो बे रूत दिल डोलता भी नहीं
साये तो मँडराते है अब भी
मैं दरवाज़ा खोलता नहीं

चलो एक कहानी तो ख़त्म हुई
खुदसे ये बेईमानी सी खतम हुई
की लोग मिले थे मुझे
कोई कहाँ मिलता है किसी और को
हर कोई अपनी ही खिड़कियों से टकरा रहा है

मिला तो बस खुदका दिल
इसके जैसा ना कोई नाज़ुक मिला ना मज़बूत
हल्की सी बोरियत तो है
यह गुज़रे न गुज़रे
दिन गुज़रेगा ज़रूर।

दरमियाँ

कुछ बचा हुआ (something left behind)

कुरेदोगे ज़ख़्मों को तो आह तो निकलेगी ही
बची हुइ बातों में कुछ चाह तो निकलेगी ही

हर अहसास बँधा हुआ है तेरी आरज़ू से
जीने में इन्हें फ़रियाद तो निकलेगी ही

ज़िक्र न भी करूँ तेरा तो क्या
अहसासों की रवानी बेज़ुबानी निकलेगी ही

नयी कैसे कर दूँ पूरानी ज़िन्दगी को
भूली बिसरी तेरी कहानी तो निकलेगी ही

बदन के फ़र्श पर एक दाग भी नहीं
पर कोई भी छुए तेरी याद तो निकलेगी ही

अफ़सानों में मेरे क़िस्सा कोई भी हो
तेरी बात तो निकलेगी ही

रूखसत होने को वक़्त नही आया इस दुनिया से
इसीलिए यह शाम भी निकलेगी ही

ज़िन्दा तो में रह लूँगा तिनके की नोक पर
इस चुभन में मेरी जान तो निकलेगी ही।

दरमियाँ

अनपढ़ दिल

कई बार सुनती हूँ की यह उससे नाराज़ है, वो उससे, वगेरह वगेरह। अकेले मे पूछों तो सभी बस कुछ चाहते है एक दूसरे से, उसी के चलते सारे गिले शिकवे होते रहते है। काश सभी थोड़ा वक़्त ले कर एक दूसरे को समझें तो कितनी आसान हो जाएँगी रोज़मर्रा की ज़िंदगी। यही भावना ज़ाहिर करने की कोशिश की है इस कविता मैं।

दिल के टुकड़े क़ाफ़िलो में बह रहे है
हम तुमसे रूठे है
सब एक दूसरे से कह रहे है
ये फ़रमान चढ़ा दो ख़ैरखवाहो की नज़र
की ख़ैर में अपनी
सभी सबको जालीम कह रहे है

आऔ पहले ज़ुबान-ए-बयान को
मुनासिब करे
अपनी सोच रहनुमा
और ज़ुबान को आकिब करे
फिर फ़लसफ़े तो अपने आप बदल जाएँगे
अफ़साने मंजिलो को छोड़ रास्तों पर आएँगे
जब नज़र नज़राने नही ढूँढेगी
तभी तो ताल्लुक़ के बहाने नहीं होंगे
रिश्ते बनेंगे रिश्तों की ख़ातिर
साथ में दो अनजाने नही होंगे
और राहगीर रुसवा नही होंगे
अरमानों के दलदल में
एक दूसरे को पास खींच खींच कर
सब कोई तन्हा नहीं होंगे
फ़लसफ़े बनाने में मिट नही जाएँगे
और फसाने अफ़सोस में नही बह जाएँगे
ये तन्हाई के आलम महफ़िल में नही होंगे
दिल में मोम लिए सब संगदिल नहीं होंगे

अपने आप को दूसरों में भी हम पाएँगे
इन बिखरे टुकड़ों से सभी, कई नये दिल बनाएँगे।

पुरानें क़िस्सों की नयी अर्ज़ियाँ

अल्फ़ाज़ (words)

यह उनके लिए है जो लिखते है।
लिखने से उन्हें क्या मिलता है यह भावना अपने आप ही लिखते हुए आ गयी इस लिखाई में। असल में कुछ ख़ास लोगों को अपनी दूसरी कविताएँ सुनाई तो उन्होंने कहा की तुम ज़्यादा दर्द ही बयान करती हो बस, बात सच भी थी और शिकायत दूर करने का मेरे पास कोई रास्ता भी नही।
तो लिखने जब लगी, फिर से कुछ संगीन ही लिख पायी, पता चला अपने आप के लिए ही लिखती हूँ किसी को लिए सब कुछ बदल लो, लिखाई तो फिर भी बयान सी ही निकलती है जैसे हाल हों। पहचाना की सूकून मिलता है जैसी लिखाई आएगी वैसी ही लिखूँगी।

अशार नहीं ये दोस्त है मेरे
कायनात वजूद में लाए हुए
जिरह-बखतर (कवच) है दिल के
क़यामत पार कराए हुए

हाल-ऐ-ज़िंदगी का साज़ है मेरे
फ़ाज-ओ-आबाद बसाए हुए
लूटे नहीं बर्बाद नहीं यह
है मुझे अपनाए हुए

आज़ादी है क़ैद-ऐ-जहाँ में मेरी
दुनिया के पिंजरे में घर बनाए हुए
साथी मेरे हैं हर ग़म में
मुझसे ज़्यादा सताए हुए

हँसू तो ख़्वाब-ऐ-आबाद है यह
रोउ तो उल्फत-ओ-नियाज़ (तड़प) है यह
यह काग़ज़ नहीं दवात नहीं
कुछ कोड़े और जज़्बात है यह

अशार नहीं अल्फ़ाज़ है दिल के
ज़माने बीते बोल इन्हें समझाए हुए
कहने की ग़लती हो रही है फिर आज कल
इकरार-ऐ-हाल से भी थे ये छिपाए हुए

पुरानें क़िस्सों की नयी अर्ज़ियाँ

बढ़ते रहना (moving forward)

एक प्रेरणादायी कविता।
हमारी सोच हम पर निर्भर करती है और हम हमारी सोच पर, इसी बात पर एक प्रश्न आया है दिमाग़ में, अगर पूछा जाए तो आप कैसी कविता पढ़ना पसंद करेंगे?
दुखी, वास्तविकता से भरी, रोमांटिक, व्यंग्यपूर्ण या प्रेरणा देने वाली? और क्यों?

तू गिरा नहीं अगर गिर गया
तू गिरा अगर उठने से फिर गया

तू ठहरा नहीं जो ठहर गया
तू ठहरा अगर चलने से मुकर गया

तू मुकम्मल (पूरा) है ख़ुद में और तू ही तालीब (जानने की तलब रखने वाला)है
तू माँबूद (दिवाइन) है तू ही ख़ालिस (दोस्त) है

तू सवाल नहीं तू जवाब है
तू अंजाम नहीं तू आग़ाज़ है

तू है शामिल इस कायनात (दुनिया) में
तू ही ज़र्रे (धूल) की आवाज़ है

तू मखलूक (नौकर) भी है
तू ही खुदा का राज हे

तू नायाब है
तू सातों आसमानों की फरीयाद है

तू बस मान ले इस बात को
तू किसी क़ैद में नहीं जो
तू अगर खुदसे आज़ाद है।